अँधेरों

मेरी आवाज़ को मिल गई रोशनी,जो अँधेरों मे डूबी थी कहीँ.

Advertisements