हिजाब(Hijab)

कुछ साल पहले की बात है हमारे दोस्त की बहन दिल्ली यूनीवर्सिटी में पढ़ती थी। उनकी माली हालत इतनी ठीक नही थी कि पढाई का बोझ उठा सके इसलिए उनकी बहन ने ट्युशन पढ़ा कर पढाई का खर्च निकालना शुरू किया। उनके पास गली के ही 10-15 बच्चे आते थे जैसे तैसे करके वो अपनी पढाई का खर्च निकाल लेती थी। उनमे एक बदलाव आया कि जब वो स्कूल में थी तब बुर्का नहीं पहनती थी पर जब कॉलेज में आई तो उन्होंने बुर्का पहनना शुरू कर दिया था। हालांकि उनके घर का माहौल इस्लामिक नही था फिर भी उन्होंने बुर्का पहनना शुरू कर दिया था। कॉलेज खत्म होने के बाद उन्होंने एक बार बताया कि उन्होंने बुर्का पहनना क्यूँ शुरू किया था और उसकी असल वजह थी कि उनके पास ज्यादा कपडे नहीं थे कि पढाई के साथ महंगे कपडे खरीद सके तो उन्होंने मटिया महल से एक बुर्का खरीद लिया ताकि कपड़ों पर पैसे जाया न हो और पढाई करते वक़्त पुराने कपड़ों की वजह से साथ पढने वाले बच्चों के बीच एहसास ए कमतरी का शिकार न हो। उन्होंने पूरी कॉलेज एक बुर्के पहन कर गुजार दी और बुर्के की वजह से कॉलेज के लफंगे भी तमीज से पेश आते हैं। अब वो अपने खाविंद के साथ विदेश में है और उनकी एक डेड साल की बेटी भी है। असल में पोस्ट इसलिए लिखी कि दो दिन से बुर्के पर बहस हो रही थी तो मैंने भी सोचा कि मैं ये किस्सा आपसे शेयर कर दूं ताकि ये पता लगे कि बुर्के पहनने से एक लड़की को कितना फायदा हुआ। असल में बुर्का सामजिक समानता का प्रतिक है और ऐसे समाज की बुनियाद डालता है जो दिखावे और बाहरी आडम्बर से परे हो। जहाँ एक दुसरे की बीवियों को देखकर आदमी की अपनी मोहतरमा में दिलचस्पी कम न हो। और न अपनी मोहतरमा में किसी दुसरे की दिलचस्पी पैदा हो। वो ऐसा समाज हो जहाँ कपड़ों और गहनों की वजह से आर्थिक असमानता उत्पन्न न हो। जहाँ कोई गरीब और सस्ते कपडे की वजह से एहसास ए कमतरी का शिकार न हो ।जिस समाज में खुलापन ज्यादा है वहां दिखावा भी ज्यादा है उनकी पूरी ज़िन्दगी क्या पहनना है और कितना खुदको सजाना है ताकि आगे वाले को कायल कर सके पर टिकी है इसकी वजह से समाज में एक अनदेखा मानसिक तनाव उत्पन्न हो गया है। और उस मानसिक तनाव को दूर करने के लिए इंसान शराब से लेकर जिना के अड्डो पर सुकून तलाश रहा है। पर ये भी हकीकत है कि मुस्लिम नौजवान औरतों के मामले में इस्लाम की दलीलें लाकर रख देते हैं पर वही नौजवान इस्लाम ने औरतों को क्या हुकूक दिए हैं इस पर कम ही बात करते हैं।

Advertisements

​मुसलमान #वंदे_मातरम क्यों नहीं कहते ?

मुसलमान #वंदे_मातरम क्यों नहीं कहते ?

#वंदे_मातरम कहने में मुसलमानों की मजबूरी क्या है ?

वंदना अर्थात स्तुति और वंदना या स्तुति उसीकी की जाती है जिसकी पूजा की जाती हो !

कण-कण में भगवान है जैसे शब्दों को मानने वाला हिंदू “भारत माता की जय, वंदे मातरम” जैसे शब्द बोल कर गर्वान्वित हो सकता है परंतु मुसलमान के लिए यह बोल पाना बहुत ही कठिन है, क्योंकि वह किसी एक की वंदना करता है !

मुसलमान बनने की पहली शर्त “आशहदो अन्ना लाइलाहा इल्लल्लाह व आशह दो अन्ना मोहम्मद रसूल अल्लाह”

अर्थार्थ मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह के सिवा कोई पूजनीय नहीं और मोहम्मद साहब अल्लाह के रसूल हैं !

यहां समझिए कोई भी मुसलमान अल्लाह को छोड़कर उसकी पूजा, इबादत नहीं कर सकता, हां किसी का आदर, सम्मान, प्रेम जरूर कर सकता है !

– दुनिया के मुसलमान सबसे अधिक आदर, सम्मान और प्रेम मोहम्मद साहब की करते हैं, लेकिन उनकी वंदना नहीं करते वंदना सिर्फ अल्लाह की करते हैं !

– अपने मां के चरणो में जन्नत, एसा मानने वाले मुसलमान अपने मां की आदर करते हैं, सम्मान करते हैं परंतु वंदना नहीं करते क्योंकि वंदना सिर्फ अल्लाह की करते हैं !

– इस देश के करोड़ों मुसलमान इस देश से प्यार करते हैं सम्मान करते हैं परंतु वंदना नहीं कर सकते क्योंकि वंदना सिर्फ अल्लाह की करते हैं !

– इस देश पर कोई संकट आ जाए वह हंसकर अपने प्राण निछावर कर सकते हैं परंतु बंदना नहीं कर सकते क्योंकि वह वंदना सिर्फ अल्लाह की करते हैं !

Importance Of Friday(juma’ah)

  • ​The Friday prayer (Juma’ah Salat) is very important for each Muslim, male and female, 
  • because it is their weekly Salat and it is a blessing that Allah bestowed on the people of 
  • Muhammad (SAW). 
  • The chosen one (SAW) has said, “Whoever makes an ablution, and makes it well, then 
  • comes to the Masjid on Friday for Juma’ah, and listens to the Khutbah attentively and 
  • keeps silent, his minor sins between that Friday and the following Friday will be 
  • forgiven, with the addition of three more days. But, he who touches pebbles (during the 
  • Salat or Khutbah) has caused an interruption.” It is clear from this that one should listen 
  • attentively to the Imam during the Khutbah, and not play with anything, such as a 
  • watch, prayer beads, or anything else, or you will lose your reward. 
  • The Prophet (SAW) said, “The five daily prayers, and praying one Friday prayer and the 
  • next, and the fasting of Ramadan, result in the expiation of the sins committed between 
  • them, so long as major sins are avoided.” This does not, however, mean that the Muslims 
  • should come to the Masjid only on Fridays, neglecting it at other times. This does not 
  • mean either that Muslims should indulge in sins at will, thinking that they will be 
  • forgiven anyhow. 
  • “If a man takes a bath on Friday, or purifies himself as much as he can with ablution, oils his hair, applies whatever perfume (or oil) available in his house, sets forth to the Masjid, and does not separate two people (to make space for himself), offers Salat that isprescribed for him, remains silent when the Imam speaks, his minor sins between that Friday and the following will be forgiven,” the Prophet (SAW) has said. It is Sunnah to oil the head and beard, put on perfume, and pay attention during the Khutbah. 
  • The Prophet (saw) also said, “The best day on which the sun has ever risen is Friday; on 
  • that day, Adam was created, he was admitted to Paradise, and he was expelled from 
  • there.” He has also said, “Among the best of your days is Friday. On that day, invoke 
  • blessings on me frequently, for your blessings are presented to me.” Rasul-Allah (SAW) 
  • said, “The Sun does not rise nor set on a day that is better than Friday, and there is no 
  • creature that is not scared of Friday except for humans and jinns.” They are afraid 
  • because Judgment Day will be on a Friday. 
  • Narrated Abu Hurairah: The Prophet (SAW) said, “There is a time on Friday at which a 
  • Muslim, while he is offering Salat and is supplicating, will be granted whatever he is asking for.” He indicated with his hands that this period of time is very short, the 
  • duration kept unknown to induce Muslims to worship throughout Friday. 
  • In a Hadith, it is said that “On Fridays, angels will be sent to the doors of the Masjid to 
  • write down the names of the people who enter the Masjid. When the Imam goes to the 
  • pulpit, they close their books, put down their pens, and start asking each other: ‘what has 
  • kept so and so from coming to Juma’ah?’ They then pray: ‘Oh Allah, if so and so is 
  • misguided, please guide him, and if he is sick, please cure him, and if he is needy, please 
  • enrich him.’” This should encourage us to go early to the Masjid on Friday for salat. 
  • All of us go early to the marketplace to trade. Why then do we not do the same with 
  • Friday prayers, which benefit our salvation and help us to attain paradise? Abu Talib Al-
  • Macci said, “The first innovation (bida’ah) in Islam was not going early to the Masjid on 
  • Fridays.” Ghazali adds, “Why do Muslims not feel ashamed that the Jews and Christians 
  • go early for worship on Saturdays and Sundays?” 
  • The Prophet (SAW) said, “If you go to Juma’ah salat and try to sit close to the Imam, then 
  • you would be of the people of paradise. If you come late for Juma’ah, then you will be 
  • delayed from entering paradise, although you are from its dwellers.” He forbade people 
  • from going over worshippers’ shoulders when trying to reach the front rows; and forbade 
  • us from interrupting prayers in any form. He also asked us to sit in the front-most rows 
  • to show the intention of sincerity, the need for knowledge, and show humility for Allah 
  • who forbade us from sitting in the back, because its usually meant for boys and women. 
  • Rasul-Allah (SAW) forbade Muslims from talking to each other during the Khutbah. If 
  • your neighbor is talking, you are not even allowed to him ask to keep quiet. Bukhari 
  • narrates: “If you ask your friend to ‘listen’ to the Khutbah, you will lose your reward.” 
  • Not taking part in Juma’ah salat without a legitimate excuse is a sign of hypocrisy. 
  • Allah will harden the person’s heart and will close it from all goodness, and then it will not have 
  • any mercy and will not accept any guidance. Allah’s Messenger (SAW) said, “I wanted to 
  • leave a man in my place to lead Juma’ah salat, so I can go and burn down the houses of 
  • those who did not come for salat, because this would be easier on them than hellfire.” 

Important Note:

It is very rewarding to read Surat Al-Kahf on Fridays before the salat. The Prophet (SAW) said, “Whoever reads Surat Al-Kahf on Fridays, there will be a bright light to shine for 

him between the two Fridays.”